सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / स्वास्थ्य / श्रमिक स्वास्थ्य / उद्योगों से जुड़े कुछ स्वास्थ्य के खतरे
शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

उद्योगों से जुड़े कुछ स्वास्थ्य के खतरे

इस लेख में श्रमिकों के उद्योगों से जुड़े कुछ स्वास्थ्य के खतरे के विषय में अधिक जानकारी दी गयी है|

भूमिका

उद्योगों से जुड़े कुछ स्वास्थ्य के खतरेफैक्टरियॉं बहुत तरह की होती हैं इसलिए स्वास्थ्य के खतरे भी कई तरह के होते हैं। नीचे कुछ ऐसे उदाहरण दिए गए हैं जो काफी आम हैं और जिनपर काफी अध्ययन हो चुका है।

विकिरणों से होने वाला कैंसर

परमाणु संयंत्रों में काम करने वाले मजदूरों के लिए यह काफी बड़ा खतरा होता है कि कोशिकाओं में बदलाव के कारण उन्हें कुछ तरह के कैंसर हो सकते हैं। बाकी जनसंख्या के मुकाबले इन मजदूरों में कैंसर ज़्यादा होता है। एक्स रे मशीन चलाने वाले लोगों को भी बचाव के उपाय न अपनाने पर इसी तरह का खतरा होता है। इसलिए वे एक खासतरह का कोट पहनते हैं जिससे एक्स रे पास न हो पातीं। इसमें सीसा होता है। परन्तु जिन रोगियों का एक्स रे होता है उन्हें खास फर्क नहीं पड़ता क्योंकि एक तो एक्स रे कभी कभार ही किया जाता है और दूसरा एक्स रे की मात्रा बहुत कम होती है।

रासायनिक खतरे

रासायनिक उद्योग उनमें काम कर रहे मजदूरों और वातावरण दोनों के लिए ही स्वास्थ्य के खतरों का एक बड़ा ज़रिया होते हैं। अगर उपयुक्त और कड़े कदम उठाएं जाएं तो यह स्थिति बदल सकती है। 1984 का भोपाल कांड औद्योगिक दुर्घटनाओं के इतिहास में एक बेहद भयानक दुर्घटना थी। वैसे भी पूरे साल ही अलग अलग रासायनिक उद्योगों में बहुत सी दुर्घटनाएं होती रहती हैं। दुर्घटनाओं के अलावा बहुत से मामलों में लंबे समय तक रसायनों से संपर्क से धीरे धीरे चिरकारी स्वास्थ्य समस्याएं होती रहती हैं। विलायक और पेंट की फैक्टरियों में काम कर रहे मजदूरों को कैंसर होना इसका एक उदाहरण है। फॉसफोरस के बहुत अधिक संपर्क में आने से (खाद की फैक्टरी में काम करने से) जबड़ों की बीमारियॉं हो जाती हैं।

फेफडो में धूल और रेशे,चक्कियों में फेफडों को क्षति पहुँच सकती है| कई तरह के उद्योगों जैसे कॉटन की मिलों, धातु की घिसाई वाली फैक्टरियों, ऐस्बेसटस की फैक्टरियों, खानों और चावल की मिलों में बहुत तरह की धूल और रेशे हवा में उड़ते रहते हैं। यह धूल और रेशे फेफड़ों में घुस कर इकट्ठे हो जाते हैं और उनसे शोथ हो जाता है। इससे चिरकारी सूखी खॉंसी होती है और फेफड़ों की क्षमता में कमी आ जाती है। इस स्थिति को न्यूमोकोनिओसिस कहते हैं। अगर धूल आदि से बचाव न हो तो बीमारी धीरे धीरे बढ़ती जाती है। किसी किसी तरह की धूल से अधिक नुकसान होता है और किसी से कम। जैसे कि ऐस्बेसटस की धूल से फेफड़ों का कैंसर हो जाता है। यह फैक्टरियों आदि में ऐस्बेसटस की शीट से काम करने वाले लोगों को होता है।

(इसी कारण से अगर किसी के घर की छत ऐस्बेसटस की हो तो उसके लिए यह ज़रूरी होता है कि वो उसे पेंट करके रखे जिससे कि उसके रेशे हवा में न उड़ें)। सभी तरह की न्यूमोकोनिओसिस तपेदिक जैसी होती है। परन्तु एक्स रे से इसका निदान हो सकता है। इस समूह की बीमारियों के बारे में फैक्टरी इन्सपैक्टर को बताया जाना चाहिए। इसमें भी सिलिकोसिस और ऍस्बेस्टॉसीस की समस्याएँ महत्त्वपूर्ण है। सिलिकोसिस खदानों में काम करने वाले और काँच बनाने के फैक्टरी में कर्मचारियों में सिलिका की धूल फेफडों में जमने के कारण होती है। इससे फेफडों की क्षमता घटकर सॉंस लेने में मुश्किल होती है। धीरे धीरे बीमारी बढती जाती है। सुखी खॉंसी, बुखार आदि के कारण लगता है जैसे टी.बी. का मामला है। एक्स रे जॉंच में बीमारी का सही पता चलता है। लेकिन इसका कोई इलाज नही। जिनमें फेफडों में जादा सिलिका धूल गयी है उनको १-२ सला में मौत का सामना करना पडता है। जिनके फेफडों में कम नुकसान हो उनको जीवन बिताना मुश्किल होता है।

ऍस्बेस्टॉस का मामला और भी कठिन  है। ऍस्बेस्टॉस छत घर के और फैक्टरीयों और इमारतों में इस्तेमाल लगा होता है। इसके सूक्ष्म धागे हवा में उडते है। यह धागे फेफडों में घुसने के बाद वहॉं कैंसर  पैदा होता है। कई देशों में इसलिए ऍस्बेस्टॉस पर पाबंदी है। लेकिन भारत में इसपर अभी तक रोक नही। ऍस्बेस्टॉस कारखानो में फेफडो का कैंसर  का धोखा  सब से ज्यादा है। मॉंग है की इसपर रोक लगनी चाहिये।

ध्वनि  से बहरापन

फोनोलोजिकल बहरापन आवाज़ डेसीबल में नापी जाती है। बहुत से उद्योगों का ध्वनि का स्तर बहुत ही ज़्यादा होता है। इससे लंबे समय में सुनने की क्षमता पर असर पड़ता है। इसके अलावा इससे बेचैनी, चिड़चिड़ापन और थकान भी होती है। ऐसे उद्योगों में कान में पहनने वाले मफलर और नियमित रूप से सुनने की क्षमता की जांच करवाना ज़रूरी होना चाहिए। दुर्भाग्य से वाहनों से भी ध्वनि की समस्या बढ़ती जा रही है। आवाज प्रदूषण डेसीबल में नापा जाता है। 75 डेसिबल से जादा तीव्र ध्वनि  नुकसानदेह है। अलग अलग स्त्रोत से कम ज्यादा डेसिबल की ध्वनि  पैदा होती है।

स्त्रोत: भारत स्वास्थ्य
3.12162162162

मनोज कुमार कसेरा निवासीचीचली Sep 30, 2017 07:09 PM

हमारे यहां ग्राम चीचली में , अधिकांश लोग हस्‍त निर्मित पीतल बर्तन निर्माण में संलग्‍न है , आमतौर पर लोग अपने घरों में ही यह कार्य करते है , ज्‍यादातर लोहे के हथौडे का प्रयोग किया जाता हैं , बर्तन साफ करने के लिये गंधक के तेजाब एवं सोडा के तेजाब का उपयोग किया जाता हैा श्‍वास ,दमा , घुटनोें में दर्द , खॉसी जैसी बीमारिया आम बात हैं , हम इनके मजदूर एवं कारीगर लोगों को क्‍या मदद कर सकते है क्‍या इनके लिये सुरक्षा के उपाय अपनाने के लिये कोई कार्यशाला आयोजित की जाकर इन्‍हे अपने स्‍वास्‍थ्‍य के प्रति जागरूक किया जा सकता हैा

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
Back to top

T612019/10/14 15:40:27.623192 GMT+0530

T622019/10/14 15:40:27.638490 GMT+0530

T632019/10/14 15:40:27.639307 GMT+0530

T642019/10/14 15:40:27.639586 GMT+0530

T12019/10/14 15:40:27.597948 GMT+0530

T22019/10/14 15:40:27.598149 GMT+0530

T32019/10/14 15:40:27.598304 GMT+0530

T42019/10/14 15:40:27.598446 GMT+0530

T52019/10/14 15:40:27.598537 GMT+0530

T62019/10/14 15:40:27.598613 GMT+0530

T72019/10/14 15:40:27.599356 GMT+0530

T82019/10/14 15:40:27.599544 GMT+0530

T92019/10/14 15:40:27.599758 GMT+0530

T102019/10/14 15:40:27.599986 GMT+0530

T112019/10/14 15:40:27.600034 GMT+0530

T122019/10/14 15:40:27.600136 GMT+0530