सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

सांस लेने के तंत्र

इस भाग में श्वसन तंत्र पर जानकारी उपलब्ध कराई गयी है|

सांस लेने के तन्त्र के काम

  • शरीर के बढ़ने ओर विकास के लिए दूसरे अंगों तक आक्सीजन पहुँचाना और अंगों से जहरीली वायु कार्बनडाइक्साइड को बाहर ले आना
  • नाक से हवा हम लेते हैं नाक उसे थोड़ी गरम और नरम बनाती है|
  • नाक से गला तक आने के बाद नली दो भागों में बंट जाती है- एक बायीं ओर एक दायी
  • ये दोनों नलियां आगे छोटी-छोटी नलियों में बंट जाती है|
  • अगर इन नलियों में किसी तरह कि रुकावट होती है तो हमें बहुत तकलीफ होती है
  • जब किसी नली में छूत लगती है तो ढेर सारा बलगम और कफ तैयार होता है
  • सांस के साथ ही बलगम, कफ, बिना पचा खाना, पानी भी बाहर निकल जाता है|
  • फेफड़ों कि बनावट हवा अन्दर और बाहर ले जाने वाली नलियों से बनता है
  • दोनों फेफड़े छाती के अन्दर रहते हैं, उनके बचाव के लिए नलियों के चारों तरफ पसलियां रहती हैं|

सांस की नलियों की समस्याएं

दमा

  • यह रोग फेफड़ों पर असर डालती हैं
  • दमा के कारण नलियां सिकुड़ जाती हैं, उनमे सूजन भी आ सकती है और मोटा बलगम जमा हो जाता है|
  • इस कारण रोगी को सांस लेने में तकलीफ होती है|
  • दमा का रोगी जब सांस लेता है तो फेफड़े के हंसली और पसली के बीच कि चमड़ी अन्दर कि ओर धंस जाती है|
  • यह जब सांस छोड़ता है तो सीटी कि आवाज निकलती है
  • फेफड़ों को पूरी हवा न मिलने पर रोगी के नाख़ून और होंठ नीले पड़ जाते हैं
  • दमा ज्यादातर बचपन में ही शुरू हो जाता है, पर यह जिन्दगी भर शरीर में बना रहता है
  • हालांकि यह रोग छुतहा नहीं है फिर भी यह माता-पिता के दमा होने के बाद बच्चे को भी सम्भावना हो जाती है|
  • कुछ खास चीजों कि खाने या सूंघने से दमा का दौरा शुरू हो जाता है|

उपचार

  • अगर घर के अन्दर दमें का दौरा शुरू है तो उसे व्यक्ति को खुले में बाहर ले जाना चाहिए
  • ऐसी चीजों को न खाएं न सूंघे जिससे दमा का दौर शुरू हो जाता है|
  • व्यक्ति को पानी और दूसरी तरल चीजें देनी चाहिए इससे बलगम ढीला पड़ता है और जल्दी बाहर निकल जाता है|
  • खौलते पानी का भाप नाक-मुंह से लेने से भी आराम मिलता है|
  • कभी-कभी पेट में कीड़े पड़े रहने से भी दमा का रोग होता है|
  • दमा रोग जिन्दगी भर चलता है, डाक्टर द्वारा दी गयी दवाओं को हमेशा अपने पास रखें
  • डाक्टर कि सलाह लेते रहें

सांस के नली कि शोथ (ब्रोंकैतिस)

  • सांस लेने वाली नलियों को छूत लगने से यह शोथ होता है|
  • इसमें काफी आवाज वाली खांसी आती है, अक्सरहां बलगम भी निकलता है
  • बिगड़ने पर रोगी को न्यूमोनिया भी हो सकता है|

लक्षण

  • बलगम वाली खांसी साल भर में तीन महीने रहती है, और हर साल आती है
  • ज्यादा खांसी के साथ बुखार भी हो सकता है
  • बीड़ी, सिगरेट, हुक्का पीने वाले लोगों में यह रोग ज्यादा होती है|

उपचार

  • डाक्टर से दिखाकर शोथ दूर करने वाली दवा लें|

फेफड़े का फोड़ा

  • नालियों में छूत लगने पर फेफड़ों में घाव हो जाता है
  • घाव के पीब फेफड़े में जमा होती है और व्यक्ति खांस कर उसे बलगम कि तरह निकालता है|
  • यह खतरनाक रोग है, छूत के कारण पूरे फेफड़े पर रोग का असर होता है|

लक्षण

  • खांसी के साथ गाढ़ा, पीला, बदबूदार बलगम निकलना
  • तेज बुखार जो दिन में एक बार पसीने के साथ कम हो जाता
  • नब्ज तेज चलती है
  • व्यक्ति काफी बीमार दिखाई देता है|

उपचार

  • पेंसिलिन कि सुई, डाक्टर कि राय लेकर
  • बुखार के लिए गोलियां
  • नाक और मुहं से भाप लें

निमोनिया

  • निमोनिया फेफड़ों का खतरनाक छूत है
  • यह अक्सरहां खसरा, काली खांसी, फ्लू, दमा रोगों के बाद होता है
  • बच्चों के लिए यह रोग बहुत ही खतरनाक होता है
  • अधिक उम्र वालों और एड्स के रोगियों को भी निमुनिया हो सकता है

लक्षण

  • तेज और छोटी-छोटी सांस
  • गले में घरघराहट
  • नाक के नथुने हर सांस के साथ फ़ैल जाते हैं
  • खांसी साथ में खून से सनी बलगम
  • तेज बुखार
  • होंट या चेहरे पर छालों का निकलना

उपचार

  • डाक्टर से पूछ कर पेंसिलिन के इंजेक्सन
  • बुखार और दरद को कम करने वाली गोलियां
  • काफी मात्रा में पानी और दूसरे तरल चीजें पीने को देना

फेफड़े का कैंसर

  • यह बीमारी पचास से पैसठ साल के लोगों में होती है
  • सिगरेट, बीड़ी, हुक्का का सेवन इसका मुख्य कारण है

लक्षण

  • खून भरी खांसी
  • सांस लेने में कठिनाई
  • बुखार

उपचार

  • डाक्टरों कि देख-रेख में इलाज एवं दवा का सेवन एवं बताए गए परहेज

स्त्रोत: संसर्ग, ज़ेवियर समाज सेवा संस्थान

2.84

sanju Jan 07, 2019 01:55 AM

मुझे सर्दी के महीने खासी आती है और खासी के साथ सास लेते टाइम घरघरट और सिटी कि आवाज आती है ।जिसे खासी तेज हो जाती है। बेलगाम भी आता है। मेरी ये हालत बचपन से है।अब मेरी आगे २५ है। कोई समाधान है तो बताए । या फिर सबसे बेस्ट डॉक्टर इंडिया में कोई। है जो मेरी बीमारी को ख़तम कर दे। संपर्क करे 78XXXंप

Sunil kumar Dec 09, 2018 09:48 PM

Sir muje sas lene par right lung me dard hota he

अभिषेक कुमार Nov 27, 2018 06:28 PM

सर हमें सास लेने में बाहुत दिकत हो रहा है रह र कर शिक और सर्दी हो जा रहा हैं खासी हों जाता हैं सर में दर्द और बुखार हो जाता है दवा लेता है तो thik होजता है दवा छुट जाने के बाद फिर हों जाता है प्लीज़ सर कुछ जिये

बिकेश कुमार Sep 15, 2018 08:02 AM

मुझे डॉक्टर ने फेफड़े के सिटी स्कैन में घाव बताया है।क्या करना चाहिए । क्या यह टीबी का रूप है

Parth pandya Jul 30, 2018 12:16 PM

Jab ham saad leke bahar chode he tab us saad ka kya hota he

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
Back to top

T612019/10/14 03:45:45.316885 GMT+0530

T622019/10/14 03:45:45.347007 GMT+0530

T632019/10/14 03:45:45.347725 GMT+0530

T642019/10/14 03:45:45.347999 GMT+0530

T12019/10/14 03:45:45.285750 GMT+0530

T22019/10/14 03:45:45.285909 GMT+0530

T32019/10/14 03:45:45.286054 GMT+0530

T42019/10/14 03:45:45.286195 GMT+0530

T52019/10/14 03:45:45.286278 GMT+0530

T62019/10/14 03:45:45.286358 GMT+0530

T72019/10/14 03:45:45.287045 GMT+0530

T82019/10/14 03:45:45.287228 GMT+0530

T92019/10/14 03:45:45.287446 GMT+0530

T102019/10/14 03:45:45.287648 GMT+0530

T112019/10/14 03:45:45.287691 GMT+0530

T122019/10/14 03:45:45.287793 GMT+0530