सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / समाचार / पीएफआरडीए ने व्यापक पहुंच के लिए ईएनपीएस प्लेटफॉर्म के जरिए ‘एपीआई’ से जुड़ने के लिए ‘आधार’ पर आधारित डिजिटल सुविधा शुरू की
शेयर

पीएफआरडीए ने व्यापक पहुंच के लिए ईएनपीएस प्लेटफॉर्म के जरिए ‘एपीआई’ से जुड़ने के लिए ‘आधार’ पर आधारित डिजिटल सुविधा शुरू की

कागज रहित पंजीकरण भी APY@eNPS के फायदों में शामिल है, बैंक शाखा जाने और बैंकिंग आईडी की कोई जरूरत नहीं है, ग्राहकों की सुविधा के अनुसार 24X7 ऑनलाइन नामांकन है ।

पेंशन कोष नियामक एवं विकास प्राधिकरण (पीएफआरडीए) ने भारत के नागरिकों को अटल पेंशन योजना (एपीवाई) के लाभ सुलभ कराने के लिए कई डिजिटल अनुकूल कदम उठाए हैं। पीएफआरडीए ने व्यापक पहुंच के लिए ईएनपीएस प्लेटफॉर्म के जरिए एपीआई संबंधी नामांकन की पेशकश करने की प्रक्रिया विकसित की है। इस चैनल या व्‍यवस्‍था के तहत ग्राहकों की सुविधा के अनुसार एपीआई से जुड़ने के लिए पूर्ण डिजिटल परिवेश सुनिश्चित किया गया है। अत: ऐसे में बैंक या डाकघर जाने और वहां व्‍यक्तिगत रूप से उपस्थित होकर संबंधित फॉर्म जमा करने की कोई आवश्‍यकता नहीं है।

अब तक बैंकों, बीसी और इंटरनेट बैंकिंग के जरिए एपीवाई से जुड़ना संभव है। एपीआई अब ईएनपीएस प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध है और कोई भी पात्र भारतीय नागरिक www.enps.nsdl.com पर जाकर APY@eNPS  के जरिए नामांकन करा सकता है। बैंक के ग्राहक ईएनपीएस पोर्टल पर जा सकते हैं और इस योजना में शामिल होने के लिए आधार/बैंक का नाम और बचत बैंक खाता संख्या प्रस्‍तुत कर सकते हैं। APY@eNPS के फायदे निम्‍नलिखि‍त हैं :

  • कागज रहित पंजीकरण
  • बैंक शाखा जाने की कोई ज़रूरत नहीं है
  • ग्राहकों की सुविधा के अनुसार 24X7 ऑनलाइन नामांकन संभव
  • इंटरनेट बैंकिंग आईडी की आवश्यकता नहीं है

पंजाब नेशनल बैंक APY@eNPS को संचालित करने वाला पहला बैंक है और यह उम्मीद की जा रही है कि कुछ अन्य बैंक शीघ्र ही यह प्‍लेटफॉर्म लांच करके ‘आधार’ पर आधारित एपीआई नामांकन की पेशकश करने लगेंगे।

बचत बैंक खाते और आधार के साथ 18 से 40 वर्ष के आयु समूह का कोई भी व्यक्ति APY@eNPS पोर्टल में न्यूनतम जानकारी प्रदान करके एपीवाई के लिए पंजीकरण करा सकता है, क्‍योंकि शेष अन्‍य जानकारियां संबंधित बैंक से स्‍वत: ही प्राप्‍त हो जाएंगी। नई सुविधा से न केवल ग्राहक के लिए एपीवाई में शामिल होना आसान हो गया है, बल्कि उन बैंकों/डाकघर की शाखाओं पर काम का बोझ भी कम हो गया है जो एपीवाई को लागू कर रहे हैं।

स्त्रोत: पत्र सूचना कार्यालय

 


Back to top

T612019/06/20 16:42:57.860201 GMT+0530

T622019/06/20 16:42:57.870236 GMT+0530

T632019/06/20 16:42:57.894510 GMT+0530

T642019/06/20 16:42:57.894887 GMT+0530

T12019/06/20 16:42:57.823628 GMT+0530

T22019/06/20 16:42:57.824630 GMT+0530

T32019/06/20 16:42:57.825486 GMT+0530

T42019/06/20 16:42:57.826336 GMT+0530

T52019/06/20 16:42:57.826426 GMT+0530

T62019/06/20 16:42:57.826495 GMT+0530

T72019/06/20 16:42:57.827858 GMT+0530

T82019/06/20 16:42:57.828046 GMT+0530

T92019/06/20 16:42:57.828401 GMT+0530

T102019/06/20 16:42:57.828753 GMT+0530

T112019/06/20 16:42:57.828800 GMT+0530

T122019/06/20 16:42:57.828912 GMT+0530