सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / ऊर्जा / पर्यावरण / उपयोगी सुझाव
शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

उपयोगी सुझाव

यह भाग पर्यावरण अनुकूल और धारणीय विकास से जुड़े सामान्य और उपयोगी सुझावों की जानकारी देता है।

गर्मी से निजात पाने के पर्यावरण के अनुकूल तरीके

  • भरपूर पानी पिएं। बोतलबन्द पानी से बचें क्योंकि यह बरबादी को बढ़ावा देता है और प्राकृतिक संसाधनों का क्षरण करता है।
  • कैफीन युक्त पेयों से बचें. छाछ जैसे प्राकृतिक पेय पिएं।
  • हल्के रंगों के कपड़े पहनें, जहां तक हो सके सूती कपड़ों का इस्तेमाल करें।
  • डिहाइड्रेशन से बचने के लिए भरपूर पेय पदार्थ लें। कुछ प्राकृतिक पेय नींबू का रस, कच्चा नारियल, फ़लों के रस आदि हैं. कच्चे नारियल के पानी में विटामिनों एवं खनिजों के साथ शकर, रेशा एवं प्रोटीन होते हैं।
  • भरपूर मात्रा में सलाद एवं तरबूज़ जैसे फल खाएं– इनमें प्राकृतिक रूप से पानी होता है. वास्तव में इस फ़ल में लगभग 92% पानी होता है और 14% तक विटामिन सी पसीने के ज़रिए कम हो गई नमी की मात्रा की भरपाई में यह मदद करता है। इस फ़ल में छोटी मात्रा में विटामिन बी तथा पोटेशियम भी पाए जाते हैं।
  • मिट्टी के बर्तनों में भंडारित पानी पिएं।
  • तेलयुक्त भोजन से बचें और खासतौर से रेहड़ी वालों द्वारा बेचे जा रहे कटे फ़ल खाने से बचें क्योंकि वह मक्खियों एवं धूल के कारण दूषित हुआ हो सकता है।
  • उपयोग के लिए हाथ का पंखा रखें। यह बिजली की कटौती होने के समय भी काम देता है।
  • खुली खिड़की पर वेट्टिवेरिआ की बनी हुई चादर लटकाएं। यह घर में ठंडी हवा के प्रसार में मदद करती है।

पर्सनल कम्प्यूटर के विकिरण से बचने के 6 उपाय

क्या आपने कभी सोचा है, आपके कंप्यूटर/लैपटॉप से निकलने वाला विकिरण कितना हानिकारक हो सकता है?

अध्ययन से पता चलता है कि आपके पीसी और इसके प्रिंटर, मॉडम तथा हाइ-फाइ उपकरणों जैसे हिस्सों से निकलने वाला विद्युतचुंबकीय विकिरण सोने से जुड़ी बीमारियों से लेकर, एलर्जी और हृदय रोग उत्पन्न कर सकते हैं। उदाहरण के लिए सीआरटी कम्प्यूटर मॉनिटर 4 से.मी पर 3 मिलिगॉस विकिरण तथा बगल से 4 मिलिगॉस विकिरण मुक्त करता है।

यहां कुछ नुस्खे बताए जा रहे हैं, जिसके जरिए आप अपने कम्यूटर के रेडिएशन से अपने-आप को बचा सकते हैं:

  1. सबसे पहले आप अपने पुराने पीसी को हटा दें, खास कर यदि वे सीआरटी मॉनिटर वाले हैं तो उसे तो सबसे पहले। अध्ययन से पता चलता है कि पुराने बक्से के आकार के कैथोड-रे-ट्यूब (सीआरटी) बड़ी मात्रा में विकिरण उत्पन्न करता है। वहीं एलसीडी मॉनिटर अपेक्षाकृत कम मात्रा में विकिरण मुक्त करता है। यह काफी कम आवृत्ति वाला विकिरण (EMF) छोड़ता है, जो 30 से.मी पर 0.3 मिलिगॉस-आगे और पीछे से और बगलों से कुछ भी विकिरण नहीं निकलता है। अध्ययन यह भी बताते हैं कि पुराने कम्प्यूटर नए मॉडलों की तुलना में लगभग दुगना विकरण मुक्त करते हैं, क्योंकि नए मॉडलों में अत्याधुनिक तकनीकों का इस्तेमाल किया जाता है।
  2. कम्यूटर के स्क्रीन पर रेडिएशन फिल्टर चढ़ाने से कम्प्यूटर से निकलने वाला रेडिएशन का प्रभाव कम होता है। साथ कम्यूटर के आस-पास किसी धातुई चीज़ों को न रखें, क्योंकि वे विद्युतचुंबकीय तरंगें उत्सर्जित करते हैं।
  3. अपने कम्यूटर स्क्रीन की ब्राइटनेस को सिर्फ उतना ही रखें, जिससे आपको देखने में सुविधा हो। क्योंकि स्क्रीन जितना चमकीला होता है, रेडिएशन उतना ही तेज होता है। साथ ही यह भी ध्यान में रखें कि स्क्रीन की ब्राइटनेस इतनी कम भी न हो कि इससे आपकी आंखों कि नुकसान पहुंच जाए। स्क्रीन के सामने देखने के लिए आदर्श दूरी 50 से 75 से.मी है।
  4. पीसी की हानिकारक रेडिएशन के प्रभाव से बचने के लिए आपको अपने कम्यूटर को रखने की जगह को तय करना होगा। आपका कम्यूटर का पिछली भाग इस प्रकार रखा हो कि यह किसी बैठे हुए व्यक्ति की तरफ न हो। अध्ययन के मुताबिक इसका पिछला हिस्सा अधिक तेज रेडिएशन छोड़ता है, जबकि अगला हिस्सा कम तेज रेडिएशन मुक्त करता है।
  5. सुनने में यह अजीब सा लगे, पर यह कारगर होता है। अध्ययन के मुताबिक, कैक्टस के पौधों मे रेडिएशन को सोखने की क्षमता होती है। इसलिए अपने वर्क-स्टेशन पर आप कैक्टस के पौधे लगाएं, ताकि आप तक कम से कम विकिरण पहुंचे।
  6. कम्यूटर स्क्रीन से कैंसर पैदा करने वाले विकिरण निकलते हैं, जो आपके स्वास्थ्य के लिए काफी हानिकारक होता है। इसे अपने कमरे में उचित वातायन कर कम किया जा सकता है। अपने पीसी के पास वेटिलेटेड कूलर/पंखे लगा कर भी इसे कम किया जा सकता है। अपने कम्यूटर पर काम करते समय आप बीच-बीच में अपने चेहरे धोते रहें, ताकि विकिरण के दौरान गिरने वाले विद्युतचुंबकीय कण आपके चेहरे पर अधिक देर तक न रहे। इन उपायों को लागू पर आप अपने कम्यूटर से निकलने वाले हानिकारक विकरण के 70% हिस्सों से अपना बचाव कर सकते हैं।

सेल फोन रेडिएशन (विकिरण) के प्रभाव को कम करने की युक्तियां

दूसरे कॉलर को वॉइस (आवाज) और टेक्स्ट संवाद भेजने के लिए सेल फोन में रेडिएशन उत्सर्जित होते हैं। हालांकि स्वास्थ्य संबधी जोखिम की पुष्टि नहीं हो पायी है, तथापि कुछ अध्ययनों में (सभी अध्ययनों में नहीं) पाया गया है कि जो व्यक्ति सेल फोन का उपयोग बहुत अधिक करते हैं उनके मस्तिष्क (ब्रेन) और मूंह में ट्यूमर होने की संभावना अधिक होती है और यह बच्चों के व्यवहार संबंधी समस्या भी उत्पन्न हो सकती है। रेडिएशन के दुष्प्रभाव को कम करने के लिए निम्नलिखित टिप्स अपनाएं और अपने आप को सुरक्षित रखें।

1. कम रेडिएशन वाला फोन खरीदें
अपने फोन के बारे में EWG’s buyer’s guideपर जानकारी लें। (आपके फोन का मॉडल नंबर आपकी बैटरी के नीचे प्रिटेंड हो सकता है।) अपने फोन को बदलकर वैसा फोन लें जिसमें से रेडिएशन कम निकलते हों और आपकी आवश्यकता भी पूरी होती हो।

2. हेडसेट या स्पीकर का प्रयोग करें
फोन की तुलना में हेडसेट में से कम रेडिएशन निकलता है। हमारी cell phone headset guide का उपयोग कर वाइरयुक्त या वायरलेस फोन (दोनों में से कौन अधिक सुरक्षित है इस संबंध में विशेषज्ञों में एकमत नहीं है) में से एक चुनें। कुछ वायरलेस हेडसेट में से लगातार निम्न-स्तर के रेडिएशन निकलते रहते हैं इसलिए जब आप बात नहीं कर रहे होते हैं तो इसे अपने कान से हटा लें। स्पीकर मोड में अपने फोन का प्रयोग करने से भी मस्तिष्क में रेडिएशन का प्रभाव कम हो जाता है।

3. सुनें ज्यादा और बोलें कम
जब आप अपने फोन पर बोलते हैं या फिर टेक्स्ट संवाद भेजते हैं तो आपके फोन से रेडिएशन अधिक होता है लेकिन जब आप संवाद प्राप्त करते हैं तो रेडिएशन कम निकलता है। इसलिए ज्यादा सुनने और कम बोलने से आप सुरक्षित रहते हैं।

4. फोन को अपने शरीर से दूर रखें
जब आप (हेडसेट या स्पीकर के साथ) फोन पर बात करते हैं तो अपने शरीर के छाती या उदर वाले भाग से फोन दूर किसी पॉकेट में या अपने बेल्ट पर रखें जहां मुलायम ऊतक रेडिएशन अवशोषित कर सकते हैं।

5. बात करने से अधिक टेक्स्टिंग (मैसेज भेजना) करें
वॉइस भेजने की तुलना में टेक्स्ट भेजने के लिए फोन को कम पावर (कम रेडिएशन) की आवश्यकता होती है। और बात करते समय जिस प्रकार आपका फोन आपके कान के पास होता है टेक्स्टिंग करते समय यह रेडिएशन को आपके हेड से दूर रखता है।

6. खराब सिग्नल? फोन से बिल्कुल दूर रहें
यदि आपके फोन में सिग्नल बार कम हैं तो इसका मतलब यह हुआ कि टावर से सिग्नल प्राप्त करने के लिए इसमें से अधिक रेडिएशन निकलता है। जब आपके फोन में अधिक सिग्नल हो तभी कॉल करें और सुनें।

7. बच्चों को फोन का प्रयोग करने से रोकें
एक वयस्क की तुलना में बच्चों का मस्तिष्क सेल फोन रेडिएशन का दोगुना अवशोषित करता है। EWG ने कम से कम 6 देशों में स्वास्थ्य एजेंसियों के साथ जुड़कर यह सिफारिश की है कि बच्चों द्वारा फोन के उपयोग को सीमित किया जाए और मात्र आपातकालीन स्थिति में ही उनके द्वारा इसका प्रयोग किया जाए।

8. "रेडिएशन शील्ड" से बचें
एंटिना कैप या कीपैड कवर जैसे रेडिएशन शील्ड से कनेक्शन की गुणवत्ता कम हो जाती है और इस कारण फोन से अधिक पावर के साथ अधिक रेडिएशन उत्सर्जित होता है।

स्रोत:: पोर्टल विषय सामग्री टीम

3.15254237288

सुनील कुमार Aug 09, 2018 09:56 PM

नमस्कार सर पर्यावरण को बचाने के लिए सुझाव देना चाहता हूं बढ़ते प्रदूषण के कारण पृथ्वी पर ऑक्सीजन दिनों दिन घट रही है इसके लिए पेड़-पौधों जरूरी है सभी राज्यों के अंदर जितने भी सरकारी विद्यालय और महाविX्XालX हैं और उनके अंदर जो कर्मचारी कार्य करत है उनको यह जिX्Xेवारी दें कि हर एक अध्यापक 5 पौधे लगाए वह उन 5 पौधों की देखभाल वह अध्यापक करें अगर कोई अध्यापक का तबादला या सेवाXिवृत्त होता है तो उसकी जगह जो भी अध्यापक आए उन्हें यह जिX्Xेवारी दें इन सब का रिकॉर्ड पंचायत समिति अधिकारी व जिलाXिकारी के समक्ष कर दे यह सब करने से देश के अंदर 1 साल में करोड़ों पेड़ लगाए जा सकते हैं यह एक सराहनीय कदम है जो हर कोई करने को तैयार है बस इसकी शुरुआत करना जरूरी है धन्यवाद

SAURABH KAUSHAL Jul 06, 2017 08:53 PM

Ye sujhaw bahut hi important hai.

Anuroop shah Mar 04, 2015 01:05 PM

आप लोगो से अनुरोध है की एंटी रेडिएशन पैच का प्रयोग करे और अगर न उपलब्ध हो तो हमें कॉल करे -81XXX37

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
संबंधित भाषाएँ
Back to top

T612019/01/20 20:48:40.718028 GMT+0530

T622019/01/20 20:48:40.731708 GMT+0530

T632019/01/20 20:48:40.732495 GMT+0530

T642019/01/20 20:48:40.732774 GMT+0530

T12019/01/20 20:48:40.687227 GMT+0530

T22019/01/20 20:48:40.687425 GMT+0530

T32019/01/20 20:48:40.687569 GMT+0530

T42019/01/20 20:48:40.687705 GMT+0530

T52019/01/20 20:48:40.687795 GMT+0530

T62019/01/20 20:48:40.687869 GMT+0530

T72019/01/20 20:48:40.688549 GMT+0530

T82019/01/20 20:48:40.688732 GMT+0530

T92019/01/20 20:48:40.688935 GMT+0530

T102019/01/20 20:48:40.689151 GMT+0530

T112019/01/20 20:48:40.689199 GMT+0530

T122019/01/20 20:48:40.689292 GMT+0530