सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / ऊर्जा / नीतिगत सहायता / दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना से बिहार के 23 जिले पूरी तरह हुए रोश्नी से जगमग
शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना से बिहार के 23 जिले पूरी तरह हुए रोश्नी से जगमग

इस पृष्ठ में दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना से बिहार राज्य को हुए फायदे के बारे में बताया गया है।

परिचय

गांवों तक बिजली पहुंचाने की गति में बिहार की रफ्तार सबसे तेज है। दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के तहत बिहार के 23 जिले पूरी तरह रोशन हो चुके हैं। शेष जिलों में भी काम तेजी से जारी है। पूरे प्रदेश में अब सिर्फ 432 गांव ही बिजली से वंचित रह गए हैं। अगले महीने तक यहां भी बिजली पहुंचाने काम पूरा कर लिया जाएगा।

पिछले वित्तीय वर्ष में ग्रामीण विद्युतीकरण में बिहार रहा देश में अव्वल

केंद्र सरकार के सार्वजनिक उपक्रम रूरल इलेक्ट्रीफिकेशन कारपोरेशन लिमिटेड की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले वित्तीय वर्ष में बिहार ने ग्रामीण विद्युतीकरण में 19 राज्यों को पछाड़कर प्रथम स्थान हासिल किया है। इस दौरान बिहार ने टारगेट से भी ज्यादा गांवों में बिजली पहुंचाई। बिहार के बाद दो-तीन राज्य ही ऐसे हैं जो टारगेट से ज्यादा गांवों में बिजली पहुंचाने में कामयाब हो सके। बाकी कई राज्यों में बिजली पहुंचाने का काम बहुत धीमा रहा। बिहार में सिर्फ कटिहार जिले में सबसे ज्यादा दिक्कत आ रही है। वहां अभी भी 274 गांवों में बिजली नहीं पहुंची है। दूसरा स्थान सहरसा का है जहां के 68 जिले बिजली से वंचित हैं। इन दोनों जिलों के सभी गांवों में अगर बिजली पहुंचा दी जाए तो बिहार को लक्ष्य की प्राप्ति में कोई बाधा नहीं रह जाएगी।

कई जिलों में हो रही 400 केवी के पावर ग्रिड की स्थापना

1 नवंबर, 2014 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक हजार दिनों के भीतर देश के सभी गांवों को रोशन कर देने का एलान किया था। इसकी अविध एक मई 2018 तय की गई थी। हालांकि बाद में इसमें से एक साल घटा कर मई 2017 कर दिया गया। बिहार को इसके अनुरूप जून 2017 के पहले 432 गांवों में बिजली पहुंचा देनी है। खपत भी बढ़ी । बिहार में ग्रामीण विद्युतीकरण के साथ-साथ बिजली की खपत में भी तेजी से वृद्धि हो रही है। चालू वर्ष में अभी तक पीक ऑवर में 38 सौ मेगावाट बिजली की सप्लाई की जा चुकी है। माना जा रहा है कि इसी वर्ष यह आंकड़ा चार हजार मेगावाट के पार कर सकता है। सप्लाई के साथ साथ आधारभूत संरचनाओं पर भी तेजी से काम हो रहा है। सहरसा, किशनगंज, पूर्णिया, कटिहार, दरभंगा, मोतिहारी एवं मुजफ्फरपुर में 400 केवी के पावर ग्रिड बनाए जा रहे हैं। सबको नेशनल ग्रिड से जोड़ा जाना है। इसके बाद कोसी, सीमांचल एवं मिथिलांचल में बिजली आपूर्ति की समस्या दूर हो जाएगी।

ये हैं पूरी तरह रोशनी से जगमग होने वाले जिले

अररिया, औरंगाबाद, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, बक्सर, दरभंगा, जमुई, जहानाबाद, किशनगंज, लखीसराय, मधेपुरा, मधुबनी, मुंगेर, मुजफ्फरपुर, नालंदा, पटना, पूर्णिया, सीतामढ़ी, पूर्वी चंपारण, सिवान, सुपौल, वैशाली

वो जिले जहां सबसे अधिक बाकी है काम

कटिहार - 274

सहरसा - 68

सारण - 33

पं चंपारण - 19

कैमूर – 17

लेखन : संदीप कुमार, स्वतंत्र पत्रकार

2.8

मो शाहनवाज अली Jun 13, 2017 10:29 PM

बिहार राज्य में ही बाराचट्टी एक ऐसा प्रखंड है जहां बिजली की स्थिति बहुत दैनीय है यह प्रखंड गया जिले में है यहां हफ्तों भर बिजली नहीं रहती जबकि यहीं हमारी विधायक समता देवी का घर है जो सत्ताधारी पार्टी (आर जे​ डी ) से है हमें ना ही किसी सरकारी योजनाओं का लाभ मिला न ही उम्मीद है इससे अच्छा होता कि हम (बि जे पी) का विधायक चुनते शायद गया जिले के तरह यहां का भी विकास हो जाता

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
संबंधित भाषाएँ
Back to top

T612017/12/18 18:16:25.083795 GMT+0530

T622017/12/18 18:16:25.199955 GMT+0530

T632017/12/18 18:16:25.204510 GMT+0530

T642017/12/18 18:16:25.204852 GMT+0530

T12017/12/18 18:16:25.055758 GMT+0530

T22017/12/18 18:16:25.055932 GMT+0530

T32017/12/18 18:16:25.056068 GMT+0530

T42017/12/18 18:16:25.056211 GMT+0530

T52017/12/18 18:16:25.056307 GMT+0530

T62017/12/18 18:16:25.056385 GMT+0530

T72017/12/18 18:16:25.057115 GMT+0530

T82017/12/18 18:16:25.057352 GMT+0530

T92017/12/18 18:16:25.057600 GMT+0530

T102017/12/18 18:16:25.057832 GMT+0530

T112017/12/18 18:16:25.057878 GMT+0530

T122017/12/18 18:16:25.057969 GMT+0530