सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / समाज कल्याण / उद्यमिता से से जुड़े प्रयास / हर्बल गुलाल बनाकर आत्मनिर्भर हो रही बिहार के जिले की महिलाएं
शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

हर्बल गुलाल बनाकर आत्मनिर्भर हो रही बिहार के जिले की महिलाएं

इस पृष्ठ में किस प्रकार बिहार के एक जिले की महिलाएं हर्बल गुलाल बनाकर अपन ज़िन्दगी संवार रही है, इसकी जानकारी दी गयी है।

परिचय

बिहार के  बांका जिले में 100 से अधिक महिलाएं पलाश के फूल से हर्बल गुलाल बनाकर आत्मनिर्भर हो रही हैं। देश की राजधानी दिल्ली तक इस गुलाल की धूम मची है। पांच साल पूर्व जाधवपुर विश्वविद्यालय, कोलकाता के छात्रों व अध्यापकों की एक शोध टीम बांका आई थी। टीम के सदस्य यहां के पलाश के कुछ फूल विवि ले गए। वहां इनसे हर्बल गुलाल बनाया गया। इसके बाद उक्त टीम के मार्गदर्शन में पिरौटा वन समिति ने इसका निर्माण शुरू किया।  उस समय से देश के विभिन्न शहरों में यह गुलाल अपनी धूम मचा चुका है। क्योंकि हर्बल गुलाल की मांग दिनों-दिन बैती जा रही है। बाजार में मिलने वाले अधिकांश गुलाल केमिकल से बनाए जाते है और यह रंग शरीर पर लगाने से हानि पहुंचाता है।

ऐसे होता है तैयार

उपेंद्र यादव, वन समिति अध्यक्ष  ने बताया की हर्बल गुलाल तैयार करने के लिए पलाश के फूल, टेल्कम पाउडर, अरारोट, फिटकिरी व इत्र की आवश्यकता होती है। पिरौटा, मोहनपुर, ढोढोरी, ललिमटया, दुधघिटया, राता, भीतिया सहित अन्य जंगलों में करीब 1200 एकड़ जमीन पर लगे पलाश के वृक्षों से 15 लाख हजार ¨क्विंटल फूल प्राप्त होते हैं। फुल्लीडुमर के पिरौटा में पलाश के फूल से गुलाल तैयार करती है महिलाएं। जागरणपलाश के फूल, सीमा के पत्ते एवं सिंदूर के फलों से अबीर बनाने को लेकर पुरस्कृत भी किया जा चुका है। 2014 में हर्बल क्षेत्र में रोजगार सर्जन के टिप्स देने के लिए बिहार के मुख्यमंत्नी नीतीश कुमार एवं हर्बल रंग की खोज के लिए 2004 में तत्कालीन प्रमंडलीय आयुक्त ने भी सम्मानित किया है।

दर्जनों महिलाओं को मिला रोजगार

ललिमटया की राधा देवी, लाखो देवी, पिरौटा की मुन्नी देवी, छोटकी देवी, कुर्थीवारी की सरसती देवी, कुल्होड़ी की मुन्नी देवी आदि ने बताया कि गुलाल बनाने की कला ने उनकी तकदीर ही बदल दी। पहले कई घरों में रोटी के भी लाले पड़ते थे। अब स्वरोजगार से आर्थिक समृद्धि आई है। बांका का हर्बल गुलाल पिछले तीन-चार साल में प्रधानमंत्री से लेकर मुख्यमंत्री आवास तक अपनी हाजिरी लगा चुका है। वन समिति इसे खास लोगों के पास भेजती रही है।

लेखन : संदीप कुमार, स्वतंत्र पत्रकार

3.02352941176

manoj soni Feb 05, 2020 06:06 PM

हम उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड क्षेत्र से हैं हमारे यहाँ पलाश के फूल तो नहीं मिल पाएंगे इस स्थिति में किस प्रकार हम हर्बल गुलाल तैयार कर सकते हैं

राकेश मिश्रा Jan 19, 2018 12:06 PM

हमारे झारखण्ड में भी पलास के फुल बहुयात में है हर्बल गुलाल बनाने की बिधि मुझे भी जाननी है क्या आप इसमे मेरी मदद कर सकते है,

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
Back to top

T612020/02/17 23:23:18.661449 GMT+0530

T622020/02/17 23:23:18.681400 GMT+0530

T632020/02/17 23:23:18.682101 GMT+0530

T642020/02/17 23:23:18.682379 GMT+0530

T12020/02/17 23:23:18.632698 GMT+0530

T22020/02/17 23:23:18.632882 GMT+0530

T32020/02/17 23:23:18.633025 GMT+0530

T42020/02/17 23:23:18.633172 GMT+0530

T52020/02/17 23:23:18.633263 GMT+0530

T62020/02/17 23:23:18.633337 GMT+0530

T72020/02/17 23:23:18.634036 GMT+0530

T82020/02/17 23:23:18.634226 GMT+0530

T92020/02/17 23:23:18.634434 GMT+0530

T102020/02/17 23:23:18.634641 GMT+0530

T112020/02/17 23:23:18.634687 GMT+0530

T122020/02/17 23:23:18.634782 GMT+0530