सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / कृषि / पशुपालन / मवेशी और भैंस / मवेशी / पशुपालक जनवरी माह से जून माह में पशुओं की देखभाल कैसे करें?
शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

पशुपालक जनवरी माह से जून माह में पशुओं की देखभाल कैसे करें?

इस पृष्ठ में पशुपालक जनवरी माह से जून माह में पशुओं की देखभाल कैसे करें, इसकी जानकारी दी गयी है।

जनवरी पौष

  • पशुओं को शीत लहर (सर्दी) से बचाएं ।
  • खुरपका मुंहपका का टीका अवश्य लगाएं
  • बाँझ संतति  का विशेष ध्यान रखें।
  • नवजात पशुओं का विशेष ध्यान रखें।
  • वाह्य परजीवी से बचाव के लिए दवा से नहलाएं
  • दुहान से पहले आयन को धो लें।

फरवरी माघ

  • खुरपका मुंहपका का टीका अवय लगाये।
  • जिन पशुओं में जुलाई अगस्त में टीका लग चूका है उन्हें पुनः लगवाएं।
  • बाह्य परजीवी तथा अन्तः परजीवी रोगों की दवा लगायें।
  • त्रिम गर्भाधान कराएं
  • बांझपन चिकित्सका एवं गर्भ परीक्षण कराएं
  • बरसीम का बीज तैयार करें।
  • पशुओं को ठण्ड से बचाने का प्रबंध करें।

मार्च फाल्गुन

  • पशुशाला की साफ सफाई तथा पुताई कराएँ
  • बधियाकरण कराएं
  • खेत में सूडान चरी तथा लोविया की बुआई करें
  • मौसम में परिवर्तन से पशु का बचाव करें।

अप्रैल चैत्र

  • खुरपका मुंहपका रोग से बचाव का टीका लगवाएं
  • जायद  के हरे चारे की युवाई करें, बरसीम चारा बीज उत्पाद हेतु कटाई  कार्य करें।
  • अधिक आय के लिए स्वच्छ दुग्ध उत्पादन करें
  • अन्तः एवं बाह्य परजीवी का बचाव द्वापान से करें।

मई बैसाख

  • गलघोटू तथा लगड़िया बुखार का टीका सभी पशुओं में लगवाएं
  • पशुओं को हरा चारा पर्याप्त मात्रा में खिलाएं ।
  • पशु का स्वच्छ  पानी पिलवाएं
  • पशु को सुबह एवं सायं नहलाएं
  • पशु को लू एवं गर्मी से बचाने को व्यवस्था करें।
  • पशुओं में परजीवी का उपचार कराएं।
  • बांझपन की चिकित्सा करवाएं तथा गर्भ परिक्षण कराएँ ।
  • परजीवी पशुओं को नमक नमक का सेवन कराएं।

जून ज्येष्ठ

  • गलघोटू तथा लगड़िया बुखार का टीका सभी पशुओं में लगवाएं
  • पशु को लू से बचाएं
  • हरा चारा पर्याप्त मात्रा में दें।
  • परजीवी की दवा पशुओं को पिलावें
  • खरीफ के चारे मक्का लोबिया के ली खेत की तैयारी करें।
  • बाँझ पशु का उपचार कराए।
  • सूखे खेत को चरी न खिलाएं अन्यथा जहर फैलने का डर रहेगा।

लेखन : हंसराम मीणा

स्त्रोत: कृषि, सहकारिता एवं किसान कल्याण विभाग, भारत सरकार

 

3.0

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
Back to top

T612019/03/21 23:52:4.982387 GMT+0530

T622019/03/21 23:52:5.013287 GMT+0530

T632019/03/21 23:52:5.260867 GMT+0530

T642019/03/21 23:52:5.261364 GMT+0530

T12019/03/21 23:52:4.957444 GMT+0530

T22019/03/21 23:52:4.957640 GMT+0530

T32019/03/21 23:52:4.957786 GMT+0530

T42019/03/21 23:52:4.957932 GMT+0530

T52019/03/21 23:52:4.958024 GMT+0530

T62019/03/21 23:52:4.958096 GMT+0530

T72019/03/21 23:52:4.958892 GMT+0530

T82019/03/21 23:52:4.959105 GMT+0530

T92019/03/21 23:52:4.959336 GMT+0530

T102019/03/21 23:52:4.959559 GMT+0530

T112019/03/21 23:52:4.959606 GMT+0530

T122019/03/21 23:52:4.959699 GMT+0530