सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / ई-शासन / डिजिटल भुगतान / डिजिटल और लेस-कैशइकोनॉमी को प्रोत्साहन के लिए पैकेज
शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

डिजिटल और लेस-कैशइकोनॉमी को प्रोत्साहन के लिए पैकेज

इस पृष्ठ में डिजिटल और लेस-कैशइकोनॉमी को प्रोत्साहन के लिए पैकेज की जानकारी दी गयी है I

पेट्रोलियम कंपनियां पेट्रोल या डीजल की बिक्री पर

डिजिटल तरीके से पेमेंट करने पर सार्वजनिक क्षेत्र की पेट्रोलियम कंपनियां पेट्रोल या डीजल की बिक्री पर ग्राहकों को 0.75 प्रतिशत की रियायत देंगी।

ऐसे पेट्रोल पंपों पर हर रोज 4.5 करोड़ लोग पेट्रोल या डीजल भरवाते हैं, जिन्हें इस स्कीम का फायदा मिल सकता है। एक अनुमान के मुताबिक प्रतिदिन 1800 करोड़ का पेट्रोल/डीजल लोगों को बेचा जाता है। इसमें से 20 प्रतिशत का पेमेंट डिजिटल तरीके से किया जाता था। नवंबर के महीने में ये बढ़कर 40 प्रतिशत तक पहुंच गया है। 360 करोड़ रुपए प्रतिदिन का कैश-ट्रांजेक्शन अब डिजिटल माध्यमों से होने लगा है।

इस स्कीम के बाद 30 प्रतिशत और ग्राहकों के डिजिटल पेमेंट की तरफ बढ़ने की संभावना है। इससे पेट्रोलपंपों पर सालाना 2 लाख करोड़ रुपए के कैश की आवश्यकता भी कम होगी।

बैंकों को आर्थिक मदद

ग्रामीण इलाकों में डिजिटल पेमेंट को आसान बनाने के लिए सरकार नाबार्ड की मदद से बैंकों को आर्थिक मदद देगी। प्रयास है कि 10 हजार से कम आबादी वाले 1 लाख गावों में 2 पीओएस  मशीनें अवश्य हों।

ये पीओएस  मशीनें प्राइमरीकॉपरेटिवसोसायटी/दुग्ध सोसायटी/ कृषि से जुड़ा सामान बेचने वाले डीलरों के पास लगाई जाएंगी ताकि खेती से जुड़ी चीजों के लिए लेन-देन डिजिटल तरीके से हो सके।

इस स्कीम का फायदा एक लाख गांवों में रहने वाले किसानों को होगा। इससे 75 करोड़ की कुल आबादी कवर होगी जो गांवों में खेती से जुड़ी जरूरतों के लिए डिजिटल तरीके से लेन-देन करेगी।

बैंकों को रुपे किसान कार्ड जारी करने में सहायता

नाबार्ड की मदद से सरकार क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों और कॉपरेटिव बैंकों को रुपे  किसान कार्ड जारी करने में सहायता करेगी। 4 करोड़ 32 लाख किसान क्रेडिट कार्ड रखने वाले धारकों को रुपे  किसान कार्ड वितरित किए जाएंगे ताकि वोपीओएस  मशीनों/माइक्रोएटीएम या एटीएम के जरिए डिजिटल पेमेंट कर सकें।

रेलवे टिकट के लिए डिजिटल तरीके से पेमेंट पर

रेलवे के सब-अर्बन रेलवे नेटवर्क में मासिक और सीजनल टिकट के लिए डिजिटल तरीके से पेमेंट करने वालों को 0.5 प्रतिशत की छूट दी जाएगी। ये छूट 1 जनवरी 2017 से खरीदे जाने वाले टिकटों पर मिलेगी।

उपनगरीय रेलवे में लगभग 80 लाख यात्री मासिक या सीजनल टिकट ज्यादातर कैश देकर ही खरीदते हैं। ऐसे टिकट के लिए प्रतिवर्ष लगभग 2 हजार करोड़ रुपए खर्च किए जाते हैं। जब ज्यादा से ज्यादा यात्री डिजिटल पेमेंट की तरफ बढ़ेंगे तो भविष्य में टिकट खरीदने के लिए नकद राशि की मांग 1000 करोड़ रुपए तक कम हो सकती है।

दुर्घटना बीमा मुफ्त

रेलवे में ऑनलाइन टिकट बुक कराने वालों को 10 लाख रुपए तक का दुर्घटना बीमा मुफ्त दिया जाएगा।

प्रतिदिन 14 लाख रेलवे यात्री टिकट खरीदते हैं जिनसे में 58 प्रतिशत टिकट ऑनलाइन खरीदे जाते हैं। उम्मीद है कि इस कदम के बाद 20 प्रतिशत और यात्री टिकट बुक कराने के लिए डिजिटल पेमेंट की तरफ बढ़ेंगे। ऐसा होने पर प्रतिदिन लगभग 11 लाख रेल यात्री प्रतिदिन दुर्घटना बीमा स्कीम के तहत कवर होंगे।

रेल की सशुल्क सेवाओं में छूट

रेल अपनी मान्यता प्राप्त इकाइयों और कोरपोरेशंस द्वारा सशुल्क सेवाएं भी उपलब्ध कराती है जैसे केटरिंग, ठहरने की सुविधा, विश्रामगृह इत्यादि। इन सुविधाओं के लिए डिजिटल तरीके से पेमेंट करने पर 5 प्रतिशत की छूट दी जाएगी।

रेलवे से सफर करने वाले हर यात्री को इसका फायदा मिलेगा।

जनरल इंश्योरेंसपॉलिसी के समय प्रीमियम में डिस्काउंट

सार्वजनिक क्षेत्र की बीमा कंपनियां कस्टमर पोर्टल के जरिए डिजिटल पेमेंट किए जाने पर जनरल इंश्योरेंस पॉलिसी के समय प्रीमियम में 10 प्रतिशत तक का डिस्काउंट या क्रेडिट देंगी। इसके अलावा लाइफ इंश्योरेंस कॉरपोरेशन में नई जीवन बीमा पॉलिसी के प्रीमियम में 8 प्रतिशत का डिस्काउंट या क्रेडिट दिया जाएगा।

ट्रांजेक्शन फीस या एमडीआर चार्ज

केंद्र सरकार के विभाग और सार्वजनिक क्षेत्र के संस्थान ये सुनिश्चित करेंगे कि डिजिटल पेमेंट करने पर ट्रांजेक्शन फीस या एमडीआर  चार्ज ग्राहकों से ना वसूला जाए। ये चार्ज इन विभागों या संस्थानों को खुद वहन करना होगा।

राज्य सरकारो को भी सलाह दी गई है कि राज्य सरकार के विभाग और संस्थाएं डिजिटल पेमेंट किए जाने पर ग्राहकों से ट्रांजेक्शन फीस या एमडीआर चार्ज ना वसूलें।

पीओएस टर्मिनल के लिए/ मोबाइल पीओएस किराया

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को सलाह दी गई है कि वो पीओएस  टर्मिनल के लिए/ मोबाइल पीओएस  के लिए या फिर माइक्रोएटीएम के लिए 100 रुपए प्रतिमाह से ज्यादा मासिक किराया ना वसूलें। इससे छोटे कारोबारियों को भी डिजिटल पेमेंट इकोसिस्टम से जुड़ने में मदद मिलेगी।

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों द्वारा लगभग 6.5 लाख मशीनें व्यापारियों को दी गई हैं जिन्हें कम किराए का लाभ मिलेगा। किराया कम होने की वजह से और ज्यादा व्यापारी ऐसी मशीनों को लगाने और डिजिटल पेमेंट के लिए प्रोत्साहित होंगे।

सर्विस चार्ज

डिजिटल तरीके से 2000 रुपए तक के ट्रांजेक्शन पर अब कोई सर्विस चार्ज नहीं लिया जाएगा और ना ही एमडीआर ( मर्चेंट डिस्काउंट रेट) वसूला जाएगा।

टोल का भुगतान

आरएफआईडी कार्ड / फास्ट टैग का उपयोग कर राष्ट्रीय राजमार्गों पर टोल प्लाजा पर टोल का भुगतान के लिए, 10% की छूट वर्ष 2016-17 में उपयोगकर्ताओं के लिए उपलब्ध हो जाएगा I

स्रोत: पत्र सूचना कार्यालय

3.05357142857

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
संबंधित भाषाएँ
Back to top

T612020/01/22 01:46:19.310423 GMT+0530

T622020/01/22 01:46:19.327160 GMT+0530

T632020/01/22 01:46:19.327863 GMT+0530

T642020/01/22 01:46:19.328136 GMT+0530

T12020/01/22 01:46:19.288577 GMT+0530

T22020/01/22 01:46:19.288771 GMT+0530

T32020/01/22 01:46:19.288918 GMT+0530

T42020/01/22 01:46:19.289058 GMT+0530

T52020/01/22 01:46:19.289148 GMT+0530

T62020/01/22 01:46:19.289221 GMT+0530

T72020/01/22 01:46:19.289927 GMT+0530

T82020/01/22 01:46:19.290112 GMT+0530

T92020/01/22 01:46:19.290320 GMT+0530

T102020/01/22 01:46:19.290542 GMT+0530

T112020/01/22 01:46:19.290589 GMT+0530

T122020/01/22 01:46:19.290684 GMT+0530